एक रात की चुदाई

एक रात की चुदाई

हेल्लो दोस्तों मैं  कबीर सैफी हूं, मेरी उम्र २७ साल है. मैं दिल्ली की एक कॉलोनी में मेरी फैमिली के साथ रहता हूं. यह कोई  काल्पनिक घटना नहीं है. यह मेरी लाइफ की सच्ची कहानी है.

loading...

 

मेरी ऊंचाई ५ फुट ८ इंच है. मेरी बॉडी भी अच्छी हे. मेरे लंड का साइज़ ७ इंच हे अब कहानी पर आते हैं. बात उन दिनों की है जब मैं कोलकाता गया था अपने होम टाउन.

 

यह बात ७ मार्च २०१४ की है. मैं अपने होम टाउन गया था अपने ग्रैंड पेरेंट्स के वहा. मेरे गांव की रास्ते में मेरा दोस्त रहता हैं. हम सारी बातें शेयर करते हैं. उसने कितनी लड़की को चोदा और मैंने कितनी लड़की को चोदा कैसे चोदा हम एक दूसरे को सब कुछ शेयर करते हैं.

loading...

 

उस रात को हमने लड़की चोदने का मन बनाया लेकिन गाँव में उसकी गर्लफ्रेंड थी  लेकिन मेरी नहीं थी. उसने कहा चल बाहर जाकर रंडी चोदते हे. मैंने पूछा कहां पर जाएंगे? तो उसने कहा कि का दीघा बीच ओरिसा. मैंने ओके कह दिया. हम अगले दिन सुबह निकल गये दीघा बिच. तिन घंटे में हम वहां पहुंच गए, बस से उतर के एक ऑटो किया.

 

तो मेने ओटो वाले से पूछा अच्छे से होटल में लेकर चलो रास्ते में मैंने उसे यहां वहां की बातें की और उसे थोड़ा फ्रेंडली भी कर लिया. अब वह थोड़ा कंफर्टेबल फील कर रहा था तो मैंने पूछा कि क्या उस होटल में लड़की ले जा सकते हैं? उसने कहा हां, मैंने कहा तुम्हारे पास कोई जुगाड़ है? तो उसने कहा साहब आप सही जगह पर आए हो, यहां सब मिलता है.

loading...

 

इस तरह ऑटो वाले ने हमें होटल उतारा, हमने कमरा बुक किया तो मैनेजर से पूछा क्या हम अपनी कोई फ्रेंड ला सकते हैं? उसने कहा दो रूम ले लो और ले आओ.

 

फिर हम ने अपना सामान होटल के रूम में रखा और उस ऑटो वाले से उसका मोबाइल नंबर ले लिया. फिर हम बीच की तरफ चले गए नहाने जब वहां गए तो वहां बहुत सारी लड़कियां स्विम सूट में घूम रही थी.

 

अपने बॉयफ्रेंड के साथ या पति के साथ मस्ती कर रही थी. यह सब देख कर और उनका फिगर देखकर हम दोनों का मन चुदाई का करने लगा.

 

हमने बीच में नहाने के बाद ओटो वाले को फोन किया तो उसने मना कर दिया. अब तक शाम हो चुकी थी और जिस मकसद से आए थे वह हो ही नहीं रहा था. हमें बहुत बुरा लग रहा था.

 

फिर हम मार्केट में घूमने लगे. एक दो रीक्षा वाले से भी पूछा लेकिन कोई नहीं बोला. तभी एक कोने में हमें एक लड़की खड़ी दिखाई दी जो कह रही थी चाई चाई बंगाली में इसका मतलब आओ आओ चोदने.

loading...

 

हमे समझते देर नहीं लगी कि हमारा काम हो गया है. वहा जा के उसके साथ बात की तो उसने कहा मेरे पीछे आओ और फिर वह एक गंदी सी गली में गयी. वहां एक गंदा सा घर था वहां से अजीब सी बदबू आ रही थी.

 

उसने कहा यहां पर रुको हम रुके रहे, तभी एक आदमी आया और उसने कहा क्या चाहिए? हमने कहा लड़की तो उसने पूछा एक शोर्ट या नाइट के लिए? हमने कहा नाइट के लिए. वह बोला ले जाओ ऊपर २००० भाड़ा लगेगा.

 

मैंने कहा हमें यहां नहीं लेनी, हमारे पास होटल में रुम है. उसने होटल का नाम पूछा तो हमने बता दिया. उसने कहा वहां यह अलाउड नहीं है यहां कर लो.

 

हमने कहा वह हम पर छोड़ दो. वह बोला अच्छा ले जाओ लेकिन अगर होटल वाले ने घुसने नहीं दिया तो पैसे वापस नहीं होंगे, हम ने कहा ओके.

 

जब हम होटल पहुंचे तो मैनेजर ने कहा आप तो कह रहे थे आपकी फ्रेंड आने वाली है, लेकिन यह आप क्या ले आए? लोकल रंडी? यह तमाशा करेगी, मैंने कहा नहीं करेगी. मेरी फ्रेंड आ नहीं पाई पर कुछ तो करना था. मैनेजर ने ओके कर दिया.

loading...

 

जब मैं उन दोनों को लेने आया तो लड़कियों ने कहा यह मैनेजर मान गया? तुम्हारी सेटिंग है क्या मैनेजर से? हमने कहा तू वह छोड़ और रूम पर चल.

 

दो लड़कियां लेकर हम दोनों रूम में आ गए. हमारा रूम कंबाइन था मतलब दोनों रूम के बीच में एक गेट था जिससे दोनों रूमो में आया जा सकते थे, हम एक ही रूम में गए.

 

अब शुरू होती है असली कहानी हम २ रंडी लेकर आए थे, मेकअप तो उनका रंडी वाला ही था.एक थोड़ी मोटी और सांवली थी और एक गोरी चिट्टी और गदराया हुआ बदन था.

 

दोनों ही बहुत सेक्सी थी. हम दोनों जाते ही उन दोनों पर टूट पड़े, गोरी वाली मैंने पकड़ ली तो उसने काली और मोटी वाली पकड़ ली, वह उसे लेकर दूसरे रुम में चला गया. मुझे नहीं मालूम उसने कैसे किया? कितना किया, लेकिन मुझे अपने बारे में पता है वह मैं लिख रहा हूं.

 

थोड़ा उस रंडी के बारे में बता दू जिसको मैंने चोदा था, उसकी हाइट ५ फुट २ इंच थी. गोरा रंग, काले लंबे बाल, ३४ के चूचे, पतली कमर २८ की होगी, गजब सा माल था यारो मैं तो जैसे पागल सा हो रहा था, उसने पूछा कॉन्डम है? मैंने कहा नहीं है.

 

तो उसने कहा जाओ लेकर आओ. मैं नीचे गया एक दुकान से कंडोम लेकर आया. आते ही उसने मेरे कपड़े उतारे और अपने भी. उसने सिर्फ लोवर उतारा अपना मेरे सारे कपड़े उतारे. मेरा लंड मुरझाया हुआ था तो उसने अपने हाथों में लेकर सहलाया तो मेरा लंड तुरत खड़ा हो गया.

 

उसने उस पर अपने होंठों से कंडोम चढ़ाया, ऐसा एहसास पहले कभी नहीं हुआ. मैं पागल सा हो रहा था. लग रहा था जैसे अभी उसके मुंह में ही झड़ जाऊंगा, लेकिन किसी तरह कंट्रोल करके रखा अपने आपको.

 

फिर उसने अपनी टांगे खोल के लेट गई और मेरा लंड पकड़ कर अपनी चूत में डालने लगी जैसे रंडिया करती है, काम खत्म करो और जाओ, लेकिन हमने नाइट के लिए बुक की थी, मुझे उसे किस करना था बूब्स सक करने थे. वह मना कर रही थी.

 

उसने हजार रुपए मांगे इस काम के लिए. मैंने मना कर दिया. मैंने उसकी चूत को फाड़ने का मन बना लिया था, तो मैंने अपना बड़ा सा लंड एक झटके में उसकी चूत में डाल दिया और खूब जोर जोर से चोदने लगा.

 

वह मेरे निप्पल को मेरी कमर को सहलाने लगी थी, कि मैं जल्दी जड जाऊं और हुआ भी ऐसा, मैं आधे घंटे में जड़ता हूं.

 

लेकिन १५ मिनट लगे जडने में, मुझे एहसास हो गया कि रंडी रंडी होती है. उसके बाद एक शॉट और मारने के बाद हमने लड़की एक्सचेंज कर ली और हम सारी रात में चार चार शॉट मारे. सुबह ६ बजे वह हमारे रुम से चली गई, यह हमारा पहला अनुभव था.

 

इसके अलावा मैंने अपनी गर्लफ्रेंड को कैसे चोदा यह सब अगली स्टोरी में बताऊंगा. अगर आप लोगों को मेरी कहानी पसंद आई तो प्लीज कमेंट करें.

loading...