बगल वाली आंटी चुदाई अपने घर में

बगल वाली आंटी चुदाई अपने घर में

हाय फ्रेंड्स, ये मेरी पहली स्टोरी हे, इस में ये स्टोरी मेरी और मेरी पड़ोस वाली भाभी की है. ये खुबसुरत घटना कुछ दिन पहले की है. जिसने मेरी जिंदगी में नई खुशिया ला दी.

loading...

सबसे पहले में आपको अपने बारे में बता दू. मेरा नाम आर्यन चौहान है. में एक बी.कॉम. फाइनल इयर का स्टूडेंट हु. जो दिल्ही में रहता हु. चलो सीधे चुदाई स्टोरी पे चलते है.

कुछ दिनों के अपने फाइनल इयर के असाइनमेंट बनाने के लिए कई बार में अपने बिल्डिंग की छत पर गया हुआ था. में आपको बता दू की हमारी छत बाकि आसपास वाली छतो से थोड़ी उची है.

जैसे ही में अपनी छत पर पहुचा, मेरे दोस्त का मुझे फ़ोन आ गया. उससे बाते करते करते में छत के किनारे घुमने लगा. अचानक एक नीचे वाली छत पर मुझे एक आंटी दिखाई दी.

उसे देखते ही, क्या बताऊ. मेरे पुरे बॉडी में हलचल होने लगी. वो आंटी नीचे वाली छत पर कपडे फैला रही थी.

 

उसने सूट सलवार पहन रखा था. पर दुपटा नही लगाया था. क्या बताऊ दोस्तों, क्या माल थी. एक बड़ी उठी हुई गांड और बड़े बड़े गोल गोल बूब्स. वो कोई पतली आंटी नही, बल्कि एक हेल्दी आंटी थी.

उसका फिगर लगभग ३८-३०-४२ था. जैसे ही वो कपड़े निकाल ने के लिए जुकती उसके बड़े बड़े ३८ साइज़ के बूब्स साफ साफ दिखने लगते. उसे देखकर मेरा लंड मेरे शॉर्ट्स से बहार आने लगा था.

में थोड़ी देर तक उसे यु ही घूरता रहा. क्या बताऊ दोस्तों, क्या खुबसुरत ओर सेक्सी बला थी. वो बिलकुल एक देसी पोर्नस्टार लग रही थी. अचानक उसने मुझे देख लिया.

loading...

वो थोडा शर्मा के अंदर चली गई. शायद उसने मेरी शोर्ट में तने हुए मेरे लंड को देख लिया था. उसके अंदर जाते ही में नीचे आया, और मुठ मारी उसकी गांड ओर बूब्स के बारे में सोचकर, क्या बताऊ दोस्तों, कितना मजा आया था.

 

उस दिन मुठी में मेरा लंड का पानी निकलते ही, में वापस छत पर आया मेरे.

 

मेरा मन उसे फिर से देख ने को कर रहा था. लेकिन काफी देर तक वो नही आई. में उससे कांटेक्ट करना चाहता था. तभी मेरे दिमाग में एक आईडिया आया.

मेने अपनी एक शर्ट उसकी छत पे गिरा दी, और उसका वेट करने लगा. अचानक बारिश स्टार्ट हो गई. मुझे पता था वो कपड़े उतारने जरुर आएगी. थोड़ी ही देर में वो फिर से आई. इस बार वो पहले से ज्यादा सेक्सी लग रही थी.

उसने एक ब्लू कलर की सूट पहने हुआ था. जिसमे उसके गांड ओर बूब्स के साइज़ साफ साफ बहार जलक रहे थे. उसे देखकर मेने कहा आंटी जी मेरी शर्ट गिरी हुई है. मेरी आवाज सुनते ही.

वो थोड़ी शोकड हो गई. लेकिन उसने कहा, ठीक हे आ के ले जाओ. में तुरंत उसकी छत पर कूदा, और अपनी शर्ट उठाई. और उसके बदन को देखने लगा. शायद उसे पता चल गया था.

मेरे ख्याल के बारे में थोड़ी देर तक मेरे देखने के बाद अचानक उसने भी मुझे देखा, हम दोनों ने एक दुसरे की आँखों में देखने लगे. मे मदहोश  होने लगा था.

अचानक मेने उससे पूछा की अंकल नही हे घर पर, उसने जवाब दिया, अंकल ऑफिस में है. और बच्चे स्कुल गये हुए है. मेने सोचा मेने बच्चो के बारे में तो पूछा नही. शायद में भी उसे पसंद आ रहा था.

loading...

वैसे में आपको बता दू मेरी हाइट ५.१० है. और रेगुलर जिम जाने की वजह से बॉडी पूरी टाइट और शेप में है. उसकी इन बातो से मेरा कॉन्फिडेंस बढ़ गया. और में उसे बिना डरे घूरने लगा.

उसके बदन को देखने लगा. वो अपने कपड़े आराम से उतार रही थी. जैसे उसे भी पूरा मजा आ रहा हो, बारिश की वजह से उसकी सूट उसके बॉडी से चिपकने लगी थी.

जिससे उसके बूब्स की निप्पल नजर आ रहे थे. उसे देखते देखते मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया.

वो भी मेरी ओर मेरे तने हुए लंड को देखा. में भी बिना नजर हटाये उसको अपने खड़ा लंड दिखाते हुए, उसे देखते रहा. जैसे ही उसने अपने सारे कपड़े उतर लिए, वो नीचे जाने लगी.

मुझे पता था की वो भी पूरी गर्म हो गई है. वकत हे उसे चोदने का, में भी उसका पीछा करने लगा. उसने पूछा तुम कहा आ रहे हो. मेने कहा, आंटी प्यास लगी है. थोडा पानी दे दो. उसने कहा, ठीक हे यही बेठ जाओ. जैसे ही वो पीछे मुड़ी मेने उसे पीछे से पकड़ लिया. क्या बताऊ दोस्तों, कितनी गरम थी.

में उसको पकडते ही वो ना ना करने लगी. लेकिन मेने लगातार उसके गालो पर किस कर के उसको शांत कर दिया, अभी हम छत वाले जीने पर ही थे. मेने जीने का दरवाजा लोक कर दिया.

अब हम उसके रूम के जीने पे अकेले थे. थोड़ी देर बाद मेने पीछे से उसके बूब्स को दबाया. क्या बताऊ दोस्तों, पहली बार इतने मोटे बूब्स को दबाने में कितना मजा आया. उसके बूब्स को दबाते दबाते में उसके बॉडी को कुते की तरह चाट रहा था.

थोड़ी देर में मेने अपना एक हाथ उसकी चूत के पास ले गया. और उपर से दो ऊँगली उसकी चूत में डाल दी. वो उछ्ल पड़ी. और मुझे गालिया देने लगी रंडी के बच्चे, आज मुझे भी रंडी बना.

चोद मुझे मेरा पति तो चुतिया, मुझे हमेशा एक जवान लंड की तलाश थी. रंडी के बच्चे तेरी रंडी बना मुझे, चोद हरामजादे चोद. ये सुनकर में ओर पागल हो गया. फिर उनके गले पर किस करने लगे वह एकदम चुप थी.

फिर उन्हें गले पर किस करते हुए ओठो पर किस करने लगे और अपना सीना उनके बूब्स पर दबा रहे थे फिर क्या बताएं गजब का मजा आ रहा था.  फिर किस करते हुए नीचे आ रहे थे और उनकी चुचियों को किस कर रहे थे.

loading...

फिर उनके पेट पर आये और दोनों हाथों से पेट के साइड से दबाए और बीच में किस किये तब उन्हें आवाज निकाली आह्ह अहह अहह उम् औम्म्मम्म.

फिर नीचे जाने की बजाए और वापस चुचियों की ओर आए और चुचियों को किस किया और इस बार जोर से दबा कर अब वो आवाजें निकालना शुरू कर दी अहः मम्म उम्म्म्म अह्ह्ह्ह ओह्ह्ह्हुह उह्ह्ह्ह अईई अम्म्मम्म.

फिर पीछे से कर किस करने लगा पीठ पर फिर और फिर वह हमें पकड़ ली और खुद लेटे लेटे मेरा टी शर्ट निकाल दी और बनियान भी उतार दी. और फिर मेरे सीने के पास किस करने लगी और किस करते हुए पकड़ ली और थोड़ी देर बाद शांत हो गई.

फिर हम उनके कमर को दबाए तो वह अहहह अह्ह्ह की  आवाज निकाली. फिर हम नीचे लेट गए और वह मेरे ऊपर आकर मेरे लोवर को और अंडरवेयर को निकाल दी. फिर अपने पेटिकोट का नाडा खोल दी और हम पेटिकोट निकाल दिए फिर उनके पैंटी भी निकाल दी. और वह मेरे ऊपर बैठे-बैठे मेरे लंड को अपने बुर में डाल दिया और लंड चूत में घुसते  समय हमें मजा आया की

फिर मैं ऊपर नीचे होने लगी और मदहोश होने लगी पर मैं भी गर्म होने लगा फिर उन्हें हमने खींच लिया और अपने ऊपर लेटा दिया और फिर लंड आगे पीछे करने लगे और उनकी ब्रा भी खोल दिए.

फिर वह मेरे ऊपर से उठ कर बेठी तो उनका ब्रा गिर गया और हम दोनों फिर सेक्स का गजब का मजा लेने लगे. और फिर उन को बेड़ पर लेटा दिया और हम उनके ऊपर आकर उन्हें चोदने लगे और वह आवाजें निकाल रही थी अहः हहह मम्म उंम्म हाहाह येस्स्स्स उह्ह्हह्ह औउम्म्म्म अह्ह्ह्ह येस्स्स्स अह्ह्ह उम्म्म्म ओह्ह्ह्ह.

फिर वह जड गई और जैसे जैसे जोश चढ़ता था चोदने  की रफ्तार तेज होती रहती थी. फिर मैं झड़ने वाला था और जैसे ही मेरा स्पर्म निकलने वाला था हम अपने लंड को  बाहर निकालें और उसमें से स्पर्म फेंक दिया. फ़ोर्स ज्यादा होने की वजह से  स्पर्म भाभी के मुंह तक पहुंच गया पर कुछ ही बूंद उनके मुंह में गया होगा और बाकी उनके गले और गाल पर था और कुछ चुचियों पर.

और फिर हम थक कर पहले तो उनके ऊपर लेट गए और मेरा लंड उनके बुर में ही था और फिर हम साइड में लेट गए अब भाभी भी एकदम थक गई थी.

और अब सांसे धीरे होने लगी थी, हम दोनों का शरीर एक दम टूट चुका था फिर भाभी ने साइड के कोने के कपड़े से अपना ऊपर गिरा हुआ स्पर्म साफ किया और फिर एक गहरी सांस लेकर छोड़ दी और लेट गई.

थोड़ी देर बाद हम उन्हें खिच लिए और उनका मुंह नीचे कर दिए और उनका मुंह कुछ देर तक मेरे लंड के पास था और फिर वह मेरे लंड को चूसने लगी और वह फिर से खड़ा हो गया. हम लेटे हुए थे और भाभी लंड चूस रही थी आवाजें निकल रही थी. और फिर स्पर्म लंड में से निकला और भाभी पूरा स्पर्म पि गई और लेट गई.

और हमने १ घंटे तक सेक्स किया. मेरा तीन बार पानी निकल गया. क्या फिगर था दोस्तों उसका, इतने मोटे बूब्स और ऐसे उठी हुई गांड, मेरी जिन्दगी का सबसे हसीन दिन था वो.उसके कुछ दिनों बाद वो लेडी वहा से दूसरी जगह शिफ्ट हो गई.

मेरी अभी भी कभी कभी उससे फ़ोन पर बात होती थी. वह दुसरे सिटी में रहती है. उसके जाने से पहले मेने उसे कई बार चोदा, और हर पोजीशन ट्राय कर लिया. क्या बताऊ दोस्तों, क्या मस्त आंटी थी वो. आपको मेरी स्टोरी कैसी लगी. ये मुझे जरुर बताइएगा.

loading...